Entertainment News

मां को बचाने के लिए बेटे ने अपनी जान जोखिम में डालकर कुएं में कूद मां की जान बचाई, इस बेटे की कहानी सुनकर आपकी आंखों में आंसू आ जाएंगे.

TNN News,

कहा जाता है कि मां के बिना जिंदगी बोरिंग हो जाती है और इसी वजह से कोई भी बच्चा अपनी मां से एक पल के लिए भी अलग नहीं होना चाहता. हाल ही में एक ऐसे ही शख्स ने अपनी मां को बचाने के लिए बिना कुछ सोचे-समझे कुएं में छलांग लगा दी और अपनी मां को बचाने की हर संभव कोशिश की. मां-बेटे की ये दुखभरी कहानी जिसने भी सुनी है वह यही कहता नजर आ रहा है कि मां-बेटे का रिश्ता सबसे अच्छा और मजबूत होता है. यह मामला राजस्थान के जयपुर का है, जहां एक मां-बेटे की कुएं में डूबने से दर्दनाक मौत हो गई। आइए आपको बताते हैं कि कैसे अपनी मां को बचाने के लिए युवक ने पहले कुएं में छलांग लगाई और मां को बचाने की हर संभव कोशिश की, जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

गिरिराज ने कुएं में गिरी अपनी मां को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल दी

सोशल मीडिया पर इन दिनों मां-बेटे की एक बेहद ही अनोखी कहानी सामने आई है, जिसमें मां को डूबने से बचाने की कोशिश में बेटे की भी जान चली गई और जिसने भी इस बेटे की हिम्मत देखी है, वह यही कहता नजर आ रहा है. मां को मिलता है ऐसा बेटा इन दोनों मां-बेटों के बारे में जैसे ही गांव वालों को खबर मिली कि ये दोनों इस हादसे का शिकार हो गए हैं तो तमाम लोग इन दोनों के प्रति अपनी हमदर्दी जता रहे हैं और कहते नजर आ रहे हैं कि अब इन दोनों का अंत हो चुका है. यह बहुत ही दुखद तरीके से हुआ। आइए आपको बताते हैं कि कैसे सबसे पहले गिरिराज की मां सोनी देवी कुएं में गिरी थीं और उन्हें बचाने के लिए गिरिराज खुद कुएं में कूद गए थे.

खेत में काम करने के दौरान हुआ ये दर्दनाक हादसा, मां को बचाने के चक्कर में बेटे ने गंवाई जान

जयपुर के चाकसू थाना क्षेत्र के कुएं में मां-बेटे के शव देखकर सनसनी फैल गई और हर कोई यही कहता नजर आया कि यह दर्दनाक हादसा कैसे हो गया. दरअसल गिरिराज और उनकी मां सोनी देवी खेतों में काम करते थे और मां खेतों में पानी के लिए कुएं के पास गई थीं तभी सोनी देवी अपना संतुलन नहीं बना पाईं और वहीं कुएं में गिर गईं. कुएं में पानी का स्तर बढ़ने के कारण वह बाहर नहीं निकल पा रही थी और जैसे ही गिरिराज ने अपनी मां को संकट में देखा तो वह भी अपनी मां को बचाने के लिए कुएं में कूद गए। कई घंटे की कोशिश के बाद भी जब मां-बेटा बाहर नहीं निकल पाए तो दोनों ने एक साथ जान गंवा दी। गिरिराज के साहस की कहानी जिसने भी सुनी है वह यही कह रहा है कि उसने अपनी मां को बचाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी और जिसे देखकर सबकी आंखें नम हो गईं.

#म #क #बचन #क #लए #बट #न #अपन #जन #जखम #म #डलकर #कए #म #कद #म #क #जन #बचई #इस #बट #क #कहन #सनकर #आपक #आख #म #आस #आ #जएग

News Source

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button